मच्छरों से नहीं बंदरों से मलेरिया फैलने का खतरा, पर्यटकों को ऐसी जगहों से दूर रहने की दी जा रही है चेतावनी


मच्छरों से मलेरिया फैलता है इसकी जानकारी सबकों है लिहाज़ा उससे निपटने के इंतज़ाम लोग करत हैं. लेकिन डायरेक्ट की बजाय अब इसना कोई इनडायरेक्ट सोर्स भी होगा ये शायद ही किसी को पता होगा. लेकिन ऐसा होने लगा है उस देख में जहां बड़े पैमाने पर टूरिस्ट पहुंचते हैं. लिहाज़ा ऐहतियातन पर्यटकों की भीड़ कम करने की चेतावनी भी जारी की जा रही है.

थाईलैंड में मच्छरों की बजाय बंदरों से मलेरिया फैलने का खतरा बढने लगा है. यही वजह है कि पुलिस ने पर्यटकों को ऐसे जंगलों से दूर रहने की चेतावनी दी जा रही है जहां मलेरियाग्रस्त बंदर रहते हैं. साथ ही पर्यटक, मजदूरों और जंगलों में या उसके आसपास रहने वाले लोगों को मच्छरों के बचने के सारे खास इंतज़ाम के साथ रहने की चेतावनी दी जी रही है.

तेज़ी से बढ़ रहे हैं मलेरिया के मामले
बताया जा रहा है कि पिछले साल अक्टूबर से मार्च के बीच में ऐसे मामले तेज़ी से बढते देखे गए थे. पिछले साल अक्टूबर और मार्च के अंत के बीच प्लास्मोडियम नोलेसी जो कि मलेरिया का एक प्रकार है उसके कुल 70 मामले सामने आए थे, जबकि इससे पहले पूरे साल में केवल 10 मामले दर्ज किए गए थे. यानि पहले की तुलना में मलेरिया के केसेज़ तेज़ी से बढ़ता देख ही थाइलैंड में बाहर से आने वालों को आगाह किया जा रहा है. रोग नियंत्रण विभाग के डॉ. ओपार्ट कर्णकाविनपोंग ने कहा कि हेल्थ प्रोफेशनल्स को अभी यह निर्धारित करना बाकी है कि खतरनाक पैरासाइट जो बुखार, ठंड लगने के अलावा कई और लक्षणों के साथ भूख ना लगने की वजह बनता है इसका इंसानों से इंसानों में फैलने का खतरा है या नहीं.

लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है
बुखार आना, ठंड लगना, भूख ना लगने के लक्षण पाए जाने वाले लोगों को लेकर प्रशासन सतर्क है. ऐसे लोगों को तुरंत उपचार या मेडिकल सपोर्ट के लिए कहा गया है. साथ ही ये भी सुनिश्चित किया जा रहा है कि दक्षिणी प्रांतों रानोंग, सोंगखला और ट्राट के पूर्वी राज्यों में बंदरों को छूने या किसी भी तरह से उनके संपर्क में आने की जानकारी होती है तो उन्हें तुरंत मेडिकल चेकअप और इलाज की ज़रूरत है. साथ ही जोखिम वाले लोगों को चुस्त कपड़े पहनने, मच्छरदानी में सोने और मच्छर भगाने वाले इंतज़ामों के प्रति सतर्क रहने के लिए कहा गया है. क्योंकि थोड़ी सी भी लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है. ज्यादा देर हुई तो जान भी जा सकती है.

Tags: Ajab Gajab news, Health, Khabre jara hatke, Shocking news, Weird news

Leave a Comment