वैज्ञानिकों ने बनाया कागज की तरह हल्का और पतला लाउडस्पीकर, हैरान करने वाली है तकनीक !


New Technology : विज्ञान की दुनिया की अलग है. यहां तकनीक का विकास रोज़ाना होता रहता है. कुछ नया तो खोजा जाता ही है, जो पहले से मौजूद है, उसे भी एडवांस बनाने के लिए एक से एक प्रयोग किए जाते हैं. हाल हमें में Massachusetts Institute of Technology यानि एमआईटी के इंजीनियर्स ने ऐसा लाउडस्पीकर (Paper Thin Loudspeaker) तैयार कर लिया है, जो कागज जितना पतला और हल्का है.

इस लाउडस्पीकर (Paper Thin Loudspeaker) की खासियत ये है कि इससे किसी भी सतह को एक एक्टिव हाई क्वॉलिटी ऑडियो सोर्स में बदला जा सकता है. IEEE ट्रांजेक्शंस ऑफ इंडस्ट्रियल इलेक्ट्रॉनिक्स में पब्लिश स्टडी में बताया गया है कि ये एडवांस लाउडस्पीकर, पारंपरिक लाउडस्पीकर में इस्तेमाल होने वाली ऊर्जा का सिर्फ एक अंश ही लेता है.

इस तरह काम करता है लाउडस्पीकर
आमतौर पर लाउडस्पीकर (Loudspeaker Quality) बड़े होते हैं लेकिन हल्का और पतला होने के साथ-साथ ये काफी छोटा भी है, जो आसानी से हाथ में आ जाता है. ये किसी भी सतह से जुड़ा हो, तो हाई क्वॉलिटी साउंड पैदा करता है. इसके लिए बेहद सरल फैब्रिकेशन का इस्तेमाल किया गया है. एमआईटी नैनो के निदेशक और इस स्टडी के मेन ऑथर व्लादिमीर बुलोविक का कहना है कि शीट जैसे स्पीकर में जो क्लिप जोड़नी होती है और इसे अपने कम्प्यूटर के हेडफोन पोर्ट में लगा देना है. इसके बाद सतह से जुड़ते ही ये साउंड प्रोड्यूस करेगा. इसका इस्तेमाल कहीं भी किया जा सकता है और इसमें बिजली की बेहद कम खपत होती है.

ये भी पढ़ें- इसी हफ्ते धरती से टकरा सकता है विशालकाय उल्कापिंड, नासा से लेकर एलन मस्क तक के छूटे पसीने!

कैसे बनाया गया कागज जैसा स्पीकर ?
लाउडस्पीकर में पीजोइलेक्ट्रिक मटीरियल से बनी फिल्म का इस्तेमाल हुआ है, जो वोल्टज मिलने के बाद मूव करती है और ऊपरी हवा के हिलने के बाद साउंड निकलता है. 1 किलोहर्ट्ज़ पर 25 वोल्ट बिजली मिलने के बाद स्पीकर ने 66 डेसिबल के लेवल पर हाई क्वॉलिटी साउंड प्रोड्यूस किया. वहीं 10 किलोहर्ट्ज़ पर ये साउंड बढ़कर 86 डेसिबल हो गया. एक औसत होम स्पीकर में 1 वाट से ज्यादा बिजली लगती है, लेकिन ये प्रति वर्ग मीटर में सिर्फ 100 मिलीवाट बिजली ही लेता है.

Tags: Ajab Gajab news, Science news, Technology



Leave a Comment